मतसंखया

र्इश्वर कितने हैं ?
 

सामाचार

3, 4, 5 जून को गुरुकुल पौन्धा, देहरादून का वार्षिकोत्सव मनाया जा रहा है, इसमें आप सपरिवार सादर आमन्त्रित हैं।

कैलेंडर

There are no events at this time
PDF Print E-mail

              वेदामृत

“परोपकाराय पुण्याय पापाय पर पीडनम।“

अर्थात परोपकार सदैव पुण्य के लिए होता है और पाप सदा दूसरों को पीडा देने के लिए।

परोपकार का अर्थ है दूसरों की भलाई करना। कोई व्यक्ति जीविकोपार्जन के लिए विभिन्न उद्यम करते हुए यदि दूसरे व्यक्तियों और जीवधारियों की भलाई के लिए कुछ प्रयत्‍‌न करता है तो ऐसे प्रयत्‍‌न परोपकार की श्रेणी में आते है। परोपकार के समान कोई धर्म नहीं है।

Read more...
 
PDF Print E-mail

 

                       समाचार 
 
 
न्यास के द्वारा वैदिक ज्ञान के लिए फेसबुक पर एक पृष्ठ बनाया गया है। जिसमें वैदिक ज्ञान की चर्चा की जाती है। उसका लिंक यह है- http://www.facebook.com/VaidikaJnanaManjusa.

न्यास के द्वारा संस्कृत के प्रचार प्रसार के लिए भी फेसबुक पर एक पेज का निर्माण कर किया। जिसमें संस्कृत के ज्ञान की चर्चा की जाती है, जिसका लिंक है -  https://facebook.com/SanskritQuiz.

 
 
PDF Print E-mail

          स्वस्थ्यवृत्तम्

स्वास्थ्यवृत्तम संतुलित आहार कुछ ही दिन में आश्चर्यजनक परिणाम दे सकता है। इससे व्यक्ति का शरीर छरहरा तो बनता ही है, उसे स्फूर्ति और ताजगी का अहसास भी होता है। संतुलित आहार को अपना कर मोटापे से परेशान व्यक्ति अपनी कमर का मोटापा कई इंच कम कर सकते हैं और कमर के ऊपर तथा पेट पर अतिरिक्त चर्बी को कम कर सकते हैं।

 

Read more...
 
PDF Print E-mail

योगामृत

“योगश्चित्वृयत्तिनिरोधः” प्रकृत सूत्र से महर्षि पतंजलि संकेत करते है कि चित्त की  वृत्तियों को यदि समाप्त करना है तो व्यक्ति को योग करना चाहिए। योगासन से व्यक्ति का शरीर सुन्दर एवं आकर्षक बनता है तथा उसका मन शीध्र एकाग्र होकर अध्ययन में लग जाता है। इसलिए विद्यार्थी के लिए योग अत्यन्त लाभकारी है। योग से व्यक्ति की बौद्धिक क्षमता का भी विकास होता है।

योगासन ही व्यक्ति के सर्वांगीण विकास का हेतु  है। प्राणायाम ही व्यक्ति के दीर्घायुष्य को बढाता है।

Read more...
 
PDF Print E-mail

          सम्पर्क सूत्र

आचार्य प्रणवानन्द विश्वनीड-न्यास,
दून वाटिका-2, पौन्धा, देहरादून (उत्तराखण्ड)
ई.मेल- This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it

अध्यक्ष:-
डॉ. धनंजय आचार्य
दून वाटिका-2, पौन्धा, देहरादून (उत्तराखण्ड)
मो.-09411106104
ई. मेल- This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it

Read more...
 
PDF Print E-mail

आज का विचार 

 9-8-2013